मोदी से कौन डरता है?

भारत में आम चुनाव होने में वैसे तो अभी एक वर्ष का समय शेष है परंतु जिस प्रकार की चर्चायें और बहस राजनीतिक विश्लेषकों और राजनीतिक दलों के मध्य चल रही है उससे तो अलग ही संकेत मिलते दिखायी दे रहे हैं। इन सबके मध्य यह अवश्य विचारणीय विषय है और शोध का भी विषय है कि गुजरात के मुख्यमंत्री देश और देश से बाहर सर्वाधिक चर्चा के केंद्र में क्यों है? गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की राजनीति को ध्रुवीकृत कर दिया है  हालाँकि उस संदर्भ में नहीं जैसा कि उनके विरोधी चाहते हैं परंतु इतना अवश्य है कि आज की स्थिति में या तो आप मोदी के समर्थक हैं या उनके विरोधी । इसमें तटस्थ जैसी कोई बात नहीं रह गयी है। इसलिये इस पर चर्चा करना स्वाभाविक है कि नरेंद्र मोदी  विश्व भर के वामपंथियों और समाजवादियों को  क्यों फूटी आँखों नहीं सुहाते? Continue reading “मोदी से कौन डरता है?”

Advertisements

Who are afraid of Narendra Modi?

Although Indian parliament has almost one year to complete its term before general elections are being declared but the speculations, gossips and assessment are there to hint something else. Beyond all these buzz one interesting question remains unanswered why chief minister of Gujarat Narendra Modi is every time in discussion either from his admirers or from his baiters?  Narendra Modi is the second Non Congress leader apart from former BJP Prime Minister Atal Bihari Vajpaee who has been in discussion so often even before he has been officially announced as the prime Ministerial candidate from the largest opposition party BJP. Continue reading “Who are afraid of Narendra Modi?”

क्यों होंगे मध्यावधि चुनाव ?

कांग्रेस नीत वर्तमान यूपीए सरकार को बाहर से समर्थन दे रही समाजवादी पार्टी के प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने दावा किया है कि उनके पास खुफिया जानकारी है कि केंद्र सरकार इसी वर्ष नवम्बर तक आम चुनाव करा सकती है। इसी बीच दक्षिण अफ्रीका में ब्रिक्स समूह की बैठक से लौटते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आशा व्यक्त की कि एक बार फिर से केंद्र में यूपीए की वापसी हो सकती है।

इन दोनों ही बयानों का आपस में कोई सम्बंध  तो नहीं है परंतु इन दोनों ही बयानों के आधार पर भविष्य की राजनीति के संकेत अवश्य निकाले जा सकते हैं। Continue reading “क्यों होंगे मध्यावधि चुनाव ?”

The Mulaym saga

For last two decades few players in political arena had dominated the scenes as  chief of Samajwadi Party Mulayam Singh Yadav had. He is the shrewdest politician of recent times and his political acumen has outsmarted many of political heavyweights. If one can recount the history he was the person responsible to stop the smooth riding of Congress chief Smt Sonia Gandhi to 7, Race course road in 1999 when after the fall of First NDA Government led by Atal Bihari Vajpaee he did not give the letter of support to president for Sonia Gandhi. In 1999 Mulayam Singh Yadav surprised everyone and political pundits by declining to support the Sonia led Government and it was speculated that he did not support Sonia Gandhi because he himself was aspiring for the top post of the country. Continue reading “The Mulaym saga”